Wednesday, April 8, 2020

हिमाचल प्रदेश सामान्य ज्ञान -पुलिस और सुरक्षा

हिमाचल प्रदेश सामान्य ज्ञान -पुलिस और सुरक्षा

हिमाचल प्रदेश सामान्य ज्ञान -पुलिस और सुरक्षा 


हिमाचल प्रदेश सामान्य ज्ञान -पुलिस और सुरक्षा
हिमाचल प्रदेश सामान्य ज्ञान -पुलिस और सुरक्षा 

(i) सुरक्षा - हिमाचल प्रदेश के सैनिकों ने अब तक सैकड़ों बहादुरी के पदक प्राप्त किए हैं | इनमें 2 विक्टोरिया क्रॉस, 4 परमवीर चक्र, 1 अशोक चक्र, 15 महावीर चक्र और करीब 70 वीर चक्र शामिल हैं |

विक्टोरिया क्रॉस विजेता -

1. भोरंज, हमीरपुर जिले के स्वर्गीय जमादार लालाराम हिमाचल प्रदेश के प्रथम विक्टोरिया क्रॉस विजेता थे | 1914 से 1918 तक हुए प्रथम विश्व युद्ध के दौरान दर्शाई गई वीरता के लिए उन्हें यह पुरस्कार दिया गया था |

2. घुमारवीं, बिलासपुर के मेजर जनरल भंडारी राम हिमाचल प्रदेश के दूसरे विक्टोरिया क्रॉस विजेता हैं | उन्हें यह पुरस्कार 1939 से 1945 के मध्य हुए द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान दर्शाए गए अदम्य साहस के लिए प्रदान किया गया था |

परमवीर चक्र -

1. काँगड़ा के मेजर सोमनाथ शर्मा भारत के प्रथम परमवीर चक्र विजेता हैं | उन्हें यह पुरस्कार मरणोपरांत प्रदान किया गया | मेजर सोमनाथ शर्मा ने 3 नवम्बर, 1947 को कश्मीर ऑपरेशन के दौरान श्रीनगर शहर तथा हवाई अड्डे को पाकिस्तानी आक्रमण से बचाने की खातिर अपना बलिदान दिया था | वे 4 कुमाऊँ रेजीमेन्ट संबद्ध थे |



2. गोरखा राइफल से संबद्ध कैप्टन धन सिंह थापा को अक्टूबर, 1962 में चीन के साथ लड़ाई में अदम्य साहस के लिए परमवीर चक्र दिया गया | वे शिमला जिले से संबंधित थे | वे जीवित परमवीर चक्र विजेता थे |

3. काँगड़ा के कैप्टन विक्रम बतरा को 1999 के कारगिल युद्ध के दौरान अदम्य शौर्य दिखाने के लिए मरणोपरांत परमवीर चक्र पुरस्कार दिया गया |

4. बिलासपुर के राइफलमैन संजय कुमार को 1999 के कारगिल युद्ध के ऑपरेशन विजय के दौरान अदम्य शौर्य दिखाने के लिए परमवीर चक्र पुरस्कार दिया गया | उन्हें जीवित रहते हुए यह सम्मान दिया गया |

महावीर चक्र - इंदौरा, नूरपुर (काँगड़ा) के लेफ्टिनेंट कर्नल कमान सिंह हिमाचल प्रदेश के पहले महावीर चक्र विजेता हैं | उन्हें यह पुरस्कार मई, 1948 में दिखाई गई बहादुरी के लिए प्रदान किया गया | उनका संबंध 3 गढ़वाल राइफल से था |

वीर चक्र - लाहौल-स्पीति के हवलदार तोपगे हिमाचल प्रदेश के पहले वीर चक्र विजेता हैं | उन्हें यह पुरस्कार जुलाई, 1948 में दिखाए गए अदम्य साहस के लिए दिया गया | उनका संबंध 8 डोगरा रेजीमेन्ट से था |

परम विशिष्ट सेवा पदक - काँगड़ा के वी. एन. शर्मा एकमात्र हिमाचली हैं जो भारत के थलसेना अध्यक्ष रहें हैं | वे इस पद पर 1988 से 1990 तक कार्यरत थे | उन्हें परम विशिष्ट सेवा पदक भी प्रदान किया गया है | उन्हें यह पदक 1977 में प्रदान किया गया |

एन. सी. सी. - बिलासपुर में नौसेना राष्ट्रीय कैडेट कार्प्स (एन. सी. सी.) की शाखा है | यह 1963 में स्थापित की गई थी | नौसेना (नेवी) एन. सी. सी. की हिमाचल में यह एकमात्र शाखा है |

विक्टरी टनल - शिमला की प्रसिद्ध विक्टरी सुरंग का निर्माण 1945 . में किया गया था | यह सुरंग मित्र राष्ट्रों की द्वितीय विश्व युद्ध में प्राप्त विजय की याद में बनाई गई थी |

मिलिट्री स्कूल - सोलन जिले के चायल में मिलिट्री स्कूल स्थित है |

(ii) पुलिस - काँगड़ा जिले केडरोहमें पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय कार्य कर रहा है | यह पहले शिमला जिले केजुनगामें स्थित था | 1994 से यह डरोह में कार्य करने लगा |

सबाथू में गोरखा सिपाहियों को प्रशिक्षित करने के लिए प्रशिक्षण केंद्र आज भी चल रहा है | हिमाचल प्रदेश के पुलिस के प्रमुख आई. जी. पी. अथवा डी. जी. पी. कहलाते हैं | हिमाचल प्रदेश के पहले आई. जी. पी. श्री एस. आर. चौधरी थे |

श्री गंगवीर सिंह राष्ट्रपति पुलिस पदक जीतने वाले पहले हिमाचली आई. जी. पी. हैं | उन्हें यह पुरस्कार 15 अगस्त, 1984 को प्राप्त हुआ | जिला किन्नौर के ओम प्रकाश राठौर (आई. पी. एस.) को संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव का पुलिस सलाहकार रहने का अवसर प्राप्त हुआ | वे यह पद प्राप्त करने वाले पहले एशियाई व्यक्ति हैं |

हिमाचल प्रदेश राज्य फोरेंसिक लैब (SFL) जुंगा में स्थित है | इसकी स्थापना वर्ष 1988 . में की गई थी | श्री बी. आर. शर्मा इसके पहले निदेशक थे | इसके अंतर्गत दो क्षेत्रीय केंद्र धर्मशाला और मण्डी में कार्य कर रहे हैं |

अन्य विभाग -

1. हिमाचल प्रदेश लोक सेवा आयोग (एच. पी. पी. एस. सी.) - हिंचल प्रदेश लोक सेवा आयोग का गठन 1971 . में किया गया | इस आयोग का कार्यालय निगम विहार शिमला में है | इस आयोग के प्रथम अध्यक्ष ले. जनरल के. एस. कटोच थे |

2. हिमाचल प्रदेश लोक प्रशासन संस्थान (हिमाचल प्रदेश इंस्टिट्यूट ऑफ़ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन) - हिमाचल प्रदेश लोक प्रशासन संस्थान की स्थापना 1 जनवरी, 1974 को की गई | यह संस्थान शिमला के फेयर लॉन में स्थित है |वी. के. शर्मा हिमाचल प्रदेश के लोक प्रशासन संस्थान के प्रथम अध्यक्ष हैं |

3. हिमाचल प्रदेश लोकायुक्त - जून, 1983 में हिमाचल प्रदेश लोकायुक्त विधेयक पारित किया गया | न्यायमूर्ति टी. वी. आर टाटाचारी हिमाचल प्रदेश के प्रथम लोकायुक्त बने | वे अगस्त, 1983 से अगस्त, 1988 तक इस पद पर रहे | लोकायुक्त का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है |

4. हिमाचल प्रदेश प्रशासनिक अधिकरण (एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रिब्यूनल) - 1 जनवरी, 1986 को हिमाचल प्रदेश प्रशासनिक अधिकरण की स्थापना की गई | न्यायमूर्ति हीरासिंह ठाकुर हिमाचल प्रदेश प्रशासनिक अधिकरण के प्रथम अध्यक्ष बने | वर्ष 2008 में इसे बंद कर दिया गया | वर्ष 2013 में इसे पुन: खोल दिया गया |

5. हिमाचल प्रदेश अधीनस्थ सेवाएं चयन बोर्ड (एच. पी. एस. एस. एस. बी) - अक्टूबर, 1998 को हिमाचल प्रदेश अधीनस्थ सेवाएं चयन बोर्ड की स्थापना की गई | हिमाचल प्रदेश अधीनस्थ सेवाएँ चयन बोर्ड पक्का भरो, हमीरपुर में स्थित है | के. सी. मल्होत्रा इसके पहले अध्यक्ष बने |

EBooks :-

  • Himachal Pradesh General Knowledge Question Bank :- Buy Now 
  • Himachal Pradesh GK Theory Ebook :-Buy Now
  • Himachal Pradesh GK Theory + Question Bank :- Buy Now


Like Our Facebook PageClick Here
Advertisement With Us Click Here
To Join WhatsappClick Here
Online StoreClick Here

No comments: