Wednesday, April 15, 2020

हिमाचल दिवस क्यों मनाया जाता है ??

Himachal Day

Himachal Day

Himachal Day || Himachal Day 2020|| 
Himachal Day
Himachal Day





15 अगस्त, 1947 को देश को स्वतंत्रता मिलने पर भी यहाँ के शासक आसानी से जनता के हाथों में सत्ता सौंपने में संकोच कर रहे थे | लेकिन ठियोग के राजा ने 17 अगस्त, 1947 को स्वतंत्र ठियोग की लोकतांत्रिक सरकार का गठन किया और राज्य की बागडोर जनता को सौंप दी | सूरतराम प्रकाश को मुखिया बनाया गया | ठियोग भारतीय संघ में विलय होने वाली पहली हिमाचली रियासत बनी |

(i) अस्थायी हिमाचल सरकार - 26 जनवरी, 1948 ई. को हिमाचल प्रदेश स्टेट्स रीजनल कौंसिल की एक सभा में पहाड़ी प्रान्तों की अस्थायी सरकार बनी | इस अस्थायी सरकार का प्रधान शिवानंद रमौल को चुना गया |

(ii) हिमाचल का नामकरण - 26 से 28 जनवरी, 1948 ई. में प्रजामण्डल और रियासतों के राजाओं का सम्मेलन सोलन के दरबार में हुआ | इस सम्मेलन की अध्यक्षता बघाट के राजा दुर्गासिंह ने की | इस सम्मेलन में सभी पहाड़ी रियासतों ने "हिमाचल प्रदेश" का नामकरण किया |

(iii) सुकेत सत्याग्रह - 18 फरवरी, 1948 ई. को नेताओं और जनता ने रियासतों के भारत में विलय के लिए सत्याग्रह करने का फैंसला किया | पं. पद्म देव के नेतृत्व से घबराकर 22 फरवरी, 1948 ई. को सुकेत राजा ने सरकार से मदद मांगी | 15 अप्रैल, 1948 ई. को सुकेत हिमाचल में शामिल हो गया | 1948 ई. के प्रारम्भ तक सभी रियासतों का भारतीय संघ में विलय हो गया |

(iv) हिमाचल प्रदेश का जन्म - 15 अप्रैल, 1948 ई. को लंबी राजनैतिक लड़ाई के बाद 26 शिमला हिल स्टेट्स और 4 पंजाबी पहाड़ी रियासतों (कुल 30 रियासतों) को मिलाकर हिमाचल प्रदेश का गठन किया गया | हिमाचल प्रदेश के गठन के समय इसमें 4 जिलें चम्बा, मण्डी, महासू और सिरमौर थे | हिमाचल प्रदेश में 24 तहसीलें एवं 2 उप-तहसीलें थी | हिमाचल प्रदेश का क्षेत्रफल 27108 वर्ग किमी. था | 15 अप्रैल, 1948 को हिमाचल प्रदेश को "मुख्य आयुक्त क्षेत्र" अर्थात् चीफ कमिश्नर प्रोविन्स बनाया गया | एन. सी. मेहता प्रदेश के पहले मुख्य आयुक्त (चीफ कमिश्नर) बने | 1948 से 1951 तक हिमाचल प्रदेश मुख्य आयुक्त क्षेत्र रहा और यहाँ पर 3 मुख्य आयुक्त बने | एन. सी. मेहता, ई. पेंडरल मून तथा भगवान सहाय को हिमाचल प्रदेश के आखिरी मुख्य आयुक्त रहे |

(v) 15 अप्रैल, 1948 ई. को हिमाचल प्रदेश का प्रशासनिक ढाँचा - हिमाचल प्रदेश के गठन के समय 24 तहसीलें और 2 उप-तहसीलें थी | शिमला हिल स्टेट्स की 26 छोटी बड़ी रियासतों को मिलाकर महासू जिले का गठन किया या | मण्डी और सुकेत रियासतों को मिलाकर मण्डी जिले का गठन किया गया | चम्बा रियासत से चम्बा और सिरमौर रियासत में सिरमौर जिले का गठन हुआ |

(क) महासू जिला - महासू जिले की 26 रियासतों को मिलकर 11 तहसीलें बनाई गई |
1. अर्की (बाघल, कुनिहार, मांगल)
2. सोलन (बघाट, बेजा, कुठाड़)
3. कुसुमपटी (क्योंथल का जुन्गा, धामी, कोटी)
4. ठियोग (ठियोग, घुण्ड, रतेश, बलसन)
5. कुमारसेन (कुमारसेन)
6. रामपुर (बुशहर की रामपुर)
7. रोहणू (रोहणू बुशहर की)
8. चीनी (बुशहर की चीनी)
9. जुब्बल (जुब्बल, रावी, ढाढी)
10. सुन्नी (भज्जी)
11. चौपाल (जुब्बल की चौपाल और थरोच रियासत)

(ख) सिरमौर जिला - 4 तहसील (नाहन, पौंटा, रेणुका, पच्छाद) |

(ग) मण्डी जिला - 6 तहसील (मण्डी सदर, सुंदरनगर, चच्योट, सरकाघाट, करसोग, जोगिन्द्रनगर) |

(vi) 1950 ई. में हिमाचल प्रदेश से हस्तान्तरित और हिमाचल प्रदेश में शामिल किए गाँव -

(क) हिमाचल प्रदेश में शामिल गाँव -
1. पंजाब से -सोलन कैण्ट, कोटगढ़ कोटखाई, उत्तरप्रदेश-सनसोग, भाटर |
2. पैप्सू से - कुफरी, धार, खुलोग, गोलिया, जमराह, सुरेटा |

(ख) हिमाचल प्रदेश से हस्तान्तरित गाँव -
1. पंजाब को - संजौली, भराड़ी, चक्कर, प्रोस्पेक्ट हिल, कुसुमपटी, पट्टी रिहाना |
2. पैप्सू की - रामपुर, वाकना, कोटाह, भरी |





Himachal Day


On August 15, 1947, even after the country got independence, the rulers of this place were hesitant to easily hand over power in the hands of the people. But the King of Theog formed a democratic government of independent Theog on 17 August 1947 and handed over the reins of the state to the people. Surtram Prakash was made the head. Theog became the first Himachali princely state to merge with the Indian Union.
(i) Temporary Himachal Government - On 26 January 1948, a provisional government of the hill states was formed in a meeting of the Himachal Pradesh Regional Council. The head of this provisional government was elected Shivanand Ramoul.

(ii) Naming of Himachal - In the 26th to 28th January, 1948, the conference of the kings of the princely states and princely states took place in the court of Solan. The conference was presided over by King Durgasinh of Baghat. In this conference all the hill states named "Himachal Pradesh".

(iii) Suket Satyagraha - On February 18, 1948, the leaders and the public decided to do Satyagraha for the merger of princely states in India. On 22 February 1948 AD, Suket Raja sought help from the government, fearing the leadership of Pt. Padma Dev. On 15 April 1948, Suket joined Himachal. By the beginning of 1948 AD, all the princely states were merged with the Indian Union.

(iv) Birth of Himachal Pradesh - After a long political battle on 15 April 1948, Himachal Pradesh was formed by combining 26 Shimla Hill States and 4 Punjabi Hill Princely States (30 states in total). At the time of the formation of Himachal Pradesh, it had 4 districts Chamba, Mandi, Mahasu and Sirmaur. Himachal Pradesh had 24 tehsils and 2 sub-tehsils. The area of ​​Himachal Pradesh is 27108 sq km. Was On 15 April 1948, Himachal Pradesh was made the "Chief Commissioner Area" i.e. Chief Commissioner of Provinces. N. C. Mehta became the first Chief Commissioner (Chief Commissioner) of the state.From 1948 to 1951, Himachal Pradesh remained the Chief Commissioner area and 3 Chief Commissioners were formed here. N. C. Mehta, E. Pendral Moon and Bhagwan Sahai were the last Chief Commissioners of Himachal Pradesh.

(v) Administrative structure of Himachal Pradesh on 15 April 1948 AD - At the time of the formation of Himachal Pradesh, there were 24 tehsils and 2 sub-tehsils. The Mahasu district was formed by merging 26 small princely states of Shimla Hill States. Mandi district was formed by merging the princely states of Mandi and Suket. The district of Chamba constituted the district of Sirmour in the princely state of Chamba and Sirmaur.



(A) Mahasu District - 11 tehsils were formed by joining 26 princely states of Mahasu district.
1. Arki (Baghal, Kunihar, Mangal)
2. Solan (Baghat, Beja, Kuthad)
3. Kusumpati (Junga, Dhami, Koti of Keonthal)
4. Theog (Theog, Ghand, Ratesh, Balsan)
5. Kumarasen (Kumarasen)
6. Rampur (Rampur of Bushehr)
7. Rohanu (Rohanu Bushehr)
8. Sugar (Bushehr's sugar)
9. Jubbal (Jubbal, Ravi, Dhadhi)
10. Sunni (Bhajji)
11. Chaupal (Prince of Jubbal and Throch)

(B) Sirmaur District - 4 Tehsils (Nahan, Paonta, Renuka, Pachhad).

(C) Mandi District - 6 Tehsils (Mandi Sadar, Sundernagar, Chachyot, Sarkaghat, Karsog, Jogindernagar).

(vi) Villages transferred from Himachal Pradesh in 1950 AD and included in Himachal Pradesh -

(A) Villages included in Himachal Pradesh -
1. From Punjab - Solan Cantt, Kotgarh Kotkhai, Uttar Pradesh - Sansog, Bhatar.
2. From Papsu - Kufri, Dhar, Kholog, Golia, Jamarah, Sureta.

(B) Villages transferred from Himachal Pradesh -
1. Punjab - Sanjouli, Bharadi, Chakkar, Prospect Hill, Kusumpati, Patti Rihanna.
2. Papsu Ki - Rampur, Wakna, Kotah, Bhari |



Like Our Facebook PageClick Here
Advertisement With Us Click Here
To Join WhatsappClick Here
Online StoreClick Here

No comments: