Thursday, April 23, 2020

Kinnaur District Complete Information(History,Geography,Economy)

Kinnaur Information-History,Geography,Economy

Kinnaur District Complete Information(History,Geography,Economy)


||Kinnaur||Kinnaur District gk||Kinnaur District gk in hindi||||

kinnaur district
Kinnaur District

Himachal Pradesh General Knowledge All Topics:- Click Here


👉👉Basic Information of Kinnaur:-

1. जिले के रूप में गठन - 21 अप्रैल, 1960

2. जिला मुख्यालय - रिकांगपियो

3. जनसंख्या घनत्व - 13 (2011 में)

4. साक्षरता - 80.77% (2011 में)

5. कुल क्षेत्रफल - 6401 वर्ग किमी. (11.50% हि.प्र. के क्षेत्रफल का )

6. जनसंख्या - 84,298 (2011 में) (1.23% हि.प्र. की जनसंख्या का)

7. लिंग अनुपात - 818 (2011 में) (न्यूनतम)

8. दशकीय जनसंख्या वृद्धि दर - 7.61% (2001-2011)

9. कुल गाँव - 660 (आबाद गाँव - 234)

10. ग्राम पंचायतें - 65

11. विकास खण्ड - 3

12. किताबें -

(क) किन्नर देश - राहुल सांस्कृत्यायन

(ख) किन्नर इन द हिमालय - एस. सी. वाजपेयी

(ग) किन्नर लोक साहित्य - बंशीराम शर्मा

(घ) द म्यूजिक ऑफ़ किन्नौर - ई. ए. चौहान

👉👉 Geography Of Kinnaur District:-

||Geography Of Kinnaur||Geography Of Kinnaur in hindi||


1. भौगोलिक स्थिति - किन्नौर हिमाचल प्रदेश के पूर्व में स्थित जिला है | किन्नौर के पूर्व में तिब्बत, दक्षिण में उत्तराखण्ड, पश्चिम में कुल्लू, दक्षिण और दक्षिण पश्चिम में शिमला तथा उत्तर पश्चिम में लाहौल-स्पीति जिलें स्थित है | जास्कर किन्नौर और तिब्बत के बीच सीमा निर्धारण करता है | किन्नौर और तिब्बत की सीमा परेछू से शुरू होकर शिपकिला, रैन्सो, शिमडोंग और गुमरंग दर्रों से होकर गुजरती है |

2. घाटियाँ - सतलुज घाटी किन्नौर की सबसे बड़ी घाटी है | हांगरांग घाटी स्पीति नदी के साथ स्थित है जो खाब गाँव के पास सतलुज में मिलती है | सुनाम या रोपाघाटी रोपा नदी द्वारा बनती है | बस्पा घाटी को सांगला घाटी भी कहा जाता है | यह घाटी बस्पा नदी द्वारा निर्मित होती है | यह किन्नौर की सबसे सुंदर घाटी है | कामरू गाँव सांगला घाटी में स्थित है | टिडोंग घाटी टिडोंग नदी द्वारा निर्मित होती है | भाभा किन्नौर का सबसे बड़ा गाँव है जो भाभा घाटी में स्थित है |

3. नदियाँ - सतलुज नदी किन्नौर को दो बराबर भागों में बाँटती है | सतलुज को तिब्बत में जुगंति और मुकसुंग के नाम से जाना जाता है | रोपा नदी शियाशू के पास सतलुज नदी में मिलती है | कसांग, तैती, यूला, मुलगुन, स्पीति और बस्पा सतलुज की किन्नौर में प्रमुख सहायक नदियाँ है |

4. झीलें - नाको (हांगरांग तहसील में स्थित) और सोरंग (निचार तहसील में स्थित) किन्नौर की प्रमुख झीलें है |

5. वन - नियोजा वृक्ष पूरे देश में केवल किन्नौर में पाया जाता है |



👉👉History Of Kinnaur District:-

 History Of Kinnaur|| History Of Kinnaur In Hindi||


1. प्राचीन इतिहास - वर्तमान किन्नौर प्राचीन रियासत बुशहर का हिस्सा रहा है | किन्नौर की आदिम जाति की उत्पति दैविक लीला से हुई मानी जाती है | अमरकोश ग्रंथ में किन्नर जाति का वर्णन मिलता है | हिन्दूधर्म ग्रंथ में किन्नर लोगों को अश्वमुखी और किम + नर: (किस प्रकार का नर) कहा गया है | तिब्बती लोग किन्नौर को खुनू कहते हैं | लद्दाख में किन्नौर, बुशहर और कामरू को मोने कहा जाता है | किन्नौर के निवासी प्राचीन काल में खस थे | किन्नौर राजपूत जो खसों की उपजातियाँ थी | कनैत और जड़ में विभाजित हो गई थी |

पाण्डवों ने 12 वर्षों का वनवास किन्नौर में बिताया था | कालिदास ने अपनी पुस्तक कुमारसंभव में किन्नरों का वर्णन किया है | वायु पुराण में किन्नरों को महानंद पर्वत का निवासी बताया गया है |

रियासत की स्थापना - बनारस के चन्द्रवंशी राजा प्रद्युम्न ने कामरू में राजधानी स्थापित कर बुशहर रियासत की नींव रखी |

बौद्ध धर्म का आगमन - सातवीं से दसवीं सदी के बीच तिब्बत के गूगे साम्राज्य के प्रभाव में आकर किन्नौर में बौद्ध धर्म और भोटिया भाषा का प्रभाव पड़ा था |

2. मध्यकालीन इतिहास - बुशहर रियासत बिलासपुर और सिरमौर के साथ शिमला पहाड़ी राज्यों की तीन प्रमुख शक्तियों में से एक थी |

राजा चतर सिंह बुशहर रियासत का 110वाँ शासक था | चतर सिंह ने अपनी राजधानी कामरू से सराहन स्थानांतरित की थी | राजा चतर सिंह का पुत्र केहरी सिंह रियासत का सबसे प्रभावी शासक था जिसे 'अजानबाहु' भी कहा जाता है , उसे मुगल बादशाह औरंगजेब ने 'छत्रपति' की उपाधि दी |चतर सिंह के प्रपौत्र कल्याण सिंह ने कल्याणपुर शहर को अपनी राजधानी बनाया |

3. आधुनिक इतिहास -

गोरखा आक्रमण - केहर सिंह की मृत्यु के बाद उसका नाबालिग पुत्र महेंद्र सिंह गद्दी पर बैठा | गोरखों ने 1803 से 1815 तक बुशहर रियासत पर आक्रमण कर सराहन पर कब्जा कर लिया | राजा महेंद्र सिंह ने कामरू में अपना डेरा जमाया | वजीर टिक्का राम और बदरी प्रसाद ने गोरखों के विरुद्ध युद्ध का नेतृत्व किया | सतलुज नदी पर बने वांगतू पुल को तोड़कर गोरखों के आक्रमण को रोका गया |

👉👉Arts & Culture Of Kinnaur District:-
||Arts Of Kinnaur||Culture of kinnaur||

1. विवाह -किन्नौर में जनेटांग व्यवस्थित विवाह है | दमचल शीश, दमटंग शीश, जुजीश प्रेम विवाह है | दरोश, डबडब, हचीश, नेमशा डेपांग जबरन विवाह के प्रकार हैं | 'हर' दूसरे की पत्नी को भगाकर किया गया विवाह है |

2. त्योहार -

(क) छतरैल त्योहार - यह त्योहार चारगांव में चैत्र माह में मनाया जाता है | यह त्योहार अपनी अश्लीलता के लिए प्रसिद्ध है |

(ख) दखेरनी त्योहार - दखेरनी त्योहार सावन के महीने में मनाया जाता है |

(ग) उखयांग या फुलैच त्योहार - यह फूलों का त्योहार है जो किन्नौर में सबसे प्रसिद्ध है | यह अगस्त से अक्टूबर के बीच मनाया जाता है | इसके अलावा फागुली, लोसर, जागरो, साजो, खेपा, छांगो शेशुल और इराटांग किन्नौर के प्रसिद्ध त्योहार हैं |

(घ) तोशिम त्योहार - यह त्योहार अविवाहित पुरषों द्वारा मनाया जाता है | इसमें स्थानीय शराब 'घांती' का सेवन किया जाता है |

3. भोजन - गेहूँ को रेजत, जोड़, थो और ओजा के नाम से जाना जाता है | जौ को टग, छा, छक, नन के नाम से किन्नौर में जाना जाता था | मक्की को 'छाहा' के नाम से जानते हैं | सुतरले त्योहार का व्यंजन है | सनपोले जलेबी जैसा व्यंजन है | काओनी नमकीन बर्फी है | किन्नौर में नाश्ते को खाऊ, दोपहर के भोजन को शिल और रात्री के भोजन को खाऊ कहा जाता है | किन्नौर में 'छांग' देशी शराब है जो हांगरांग घाटी में मुख्यत: पी जाती है | 'घांती' जौ से बनी स्थानीय शराब है | रिब्बा घाटी अपने अंगूरों के लिए प्रसिद्ध है इसलिए रिब्बा को 'अंगूरों की घाटी' भी कहते हैं |



4. पोशाक - 'छमू' कुरती परुषों द्वारा पहनी कमीज को कहते हैं | 'छमू सूथन' ऊनी पजामा है जो पुरषों द्वारा पहना जाता है | 'थेपांग' हिमाचली टोपी का नाम है | महिलाएँ ढोरी, चोली और गचांग पहनती है | 'छानली' शौल का नाम है |

5. लवी मेला - बुशहर के राजा केहरी सिंह ने 1683 ई. में रामपुर में लवी मेला शुरू किया | यह एक व्यापारिक मेला है जहाँ से तिब्बत से व्यापार होता था | यह हिमाचल प्रदेश का सबसे पुराना मेला है |

👉👉Economy & Education Of Kinnaur District:-

1. शिक्षा - रिकांगपियो में नवोदय स्कूल है | किन्नौर में 1890 ई. में पहला प्राइमरी स्कूल चीनी में खुला | वर्ष 1899 में पूह में दूसरा प्राइमरी स्कूल खोला गया |

2. अर्थव्यवस्था - किन्नौर में कड़छम में भेड़ प्रजनन केंद्र है |

खनिज - किन्नौर में रंगवार में तांबा, असरंग में चीनी मिट्टी, वांगतू में फ्लोस्पर और तांगलिंग में अभ्रक पाया गया है | किन्नौर में चारगांव में पाइराइटऔर चांदी के कण मिले हैं | सांगला घाटी में स्लेट और छांगों में जिप्सम के भण्डार का पता चला है |

3. जलविद्युत परियोजनाएं - संजय जल विद्युत् परियोजना (भाभा) 120 मेगावाट, नाथपा झाकड़ी परियोजना (1500 मेगावाट), बस्पा जल विद्युत परियोजना जिले की प्रमुख जलविद्युत परियोजनाएं है |

 👉👉Famous Places:

1. चीनी - 1895 ई. में गठित यह तहसील किन्नौर का मुख्यालय भी रहा है | यह लॉर्ड डलहौजी का पसंदीदा निवास स्थान था | डलहौजी ने चीनी में रहते हुए हिन्दुस्तान-तिब्बत सड़क का निर्माण करवाया |

2. कल्पा - कल्पा रिकांगपियो से पहले किन्नौर का मुख्यालय था |

3. छितकुल - यह बस्पा घाटी का अंतिम गाँव है |

4. कामरू - बुशहर रियासत की प्राचीन राजधानी कामरू में स्थित थी | यहाँ के 5 मंजिला शाही दुर्ग में कामाक्षा देवी मंदिर है |

👉👉Demographic data of Kinnaur-
किन्नौर की जनसंख्या 1901 ई. में 27,232 से बढ़कर 1951 ई. में 34,475 हो गई | वर्ष 1971 ई. में किन्नौर की जनसंख्या 49,835 से बढ़कर 2011 में 84,298 हो गई | वर्ष 2011 में किन्नौर का लिंगानुपात 818 (न्यूनतम) रह गया है | किन्नौर का जनघनत्व 2011 में 13 हो गया है | किन्नौर जिले का 2011 में हिमाचल प्रदेश की जनसंख्या में योगदान 1.23% है | 2001-2011 में दशकीय वृद्धि दर 7.61% थी | किन्नौर की साक्षरता दर 2011 में 80.77 % थी | किन्नौर में कुल 660 गाँव है जिसमें से आबाद गाँव 234 हैं | किन्नौर में 65 ग्राम पंचायतें हैं | वर्ष 2011 में किन्नौर का शिशु लिंगानुपात (0-6 वर्ष) 952 था |


👉👉Location of Kinnaur district 

 किन्नौर लाहौल-स्पीति और चम्बा के बाद तीसरा सबसे बड़ा जिला है | किन्नौर की जनसंख्या लाहौल-स्पीति के बाद न्यूनतम (11 वां स्थान) है | वर्ष 2001-2011 के बीच किन्नौर की दशकीय जनसंख्या वृद्धि लाहौल-स्पीति के बाद न्यूनतम (11वाँ स्थान) है | जनसंख्या घनत्व में भी किन्नौर का स्थान 11वाँ हैं | किन्नौर जिले में सबसे कम लिंगानुपात (2011 में ) 818 था | शिशु लिंगानुपात (0-6 वर्ष) में किन्नौर 2011 में 952 के साथ तीसरे स्थान पर था | साक्षरता में (वर्ष 2011 में) किन्नौर आठवें स्थान पर था | किन्नौर की शत-प्रतिशत जनसंख्या ग्रामीण है | किन्नौर के केवल 9.4% क्षेत्र वनाच्छादित हैं जोकि लाहौल-स्पीति (1.39%) के बाद न्यूनतम है | किन्नौर में सबसे कम लघु उद्योग है | वर्ष 2011-2012 में किन्नौर शिमला के बाद सेब उत्पादन में दूसरे स्थान पर आ गया | किन्नौर में 53290 टन सेब का उत्पादन हुआ | किन्नौर अंगूर उत्पादन में पहले स्थान पर है |


Like Our Facebook PageClick Here
Advertisement With Us Click Here
To Join WhatsappClick Here
Online StoreClick Here

No comments: