Tuesday, May 5, 2020

famous personalities of himachal pradesh

famous personalities of himachal pradesh

famous personalities of himachal pradesh


||famous personalities of himachal pradesh||Eminent Personalities of Himachal Pradesh||


famous personalities of himachal pradesh
famous personalities of himachal pradesh





 1. पहाड़ी गांधी बाबा कांशीराम -
 इनका जन्म 11 जुलाई, 1882 में काँगड़ा जिले के डाडासिब्बा स्थान पर हुआ | 1902 में वह स्वाधीनता संग्राम में कूद पड़े | 1937 में 'गदड़िया' जनसभा में पंडित नेहरू ने इन्हें पहाड़ी गांधी का नाम दिया | सरोजिनी नायडू ने इन्हें पहाड़ी बुलबुलकहकर संबोधित किया | 1943 में इनकी मृत्यु हो गई | भगतसिंह, राजगुरु, सुखदेव को फांसी मिलने के बाद आजादी तक इन्होंने काले कपड़े धारण करने का प्रण किया |

2 भागमल सौंठा -
 इनका जन्म 23 सितम्बर, 1899 में जुब्बल में हुआ | इन्होंने 1939 में धामी प्रेम प्रचारिणी सभा का गठन किया | 16 जुलाई, 1939 को धामी की राजधानी हलोग में एक जनसभा का आयोजन हुआ | धामी पुलिस ने इन्हें धनाहट्टी में गिरफ्तार कर लिया | जनता भड़क उठी और धामी गोलीकाण्ड में 2 लोगों की जान चली गई | यह हिमाचल प्रदेश में गोली काण्ड की पहली घटना थी | भागमल सौंठा को अम्बाला जेल में बंद कर दिया गया |

3. पंडित पद्मदेव -

इनका जन्म 26 जनवरी, 1901 में रोहडू के भमनोल गाँव में हुआ | ये कविराज के नाम से भी जाने जाते हैं | इन्होंने सविनय अवज्ञा आंदोलन तथा भारत छोड़ो आंदोलन में भी भाग लिया | 1946 में इन्होंने हिमालयन हिल स्टेट रीजनल काउंसिल का गठन किया और उसके महासचिव बने | इन्होंने सुकेत सत्याग्रह का नेतृत्व किया | पंडित पद्मदेव 1952 में हिमाचल प्रदेश की पहली कांग्रेस सरकार के प्रथम गृहमंत्री बने |

4. चन्द्रधर शर्मा गुलेरी -
 चन्द्रधर शर्मा गुलेरी हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध लेखक, कहानीकार, गीतकार व समीक्षक थे | इनका जन्म 7 जुलाई, 1883 को जयपुर में हुआ | इनका पैतृक गाँव काँगड़ा का गुलेर था | सुखमय जीवन, बुद्ध का काँटा, उसने कहा था आदि इनकी प्रसिद्ध रचनाएँ हैं |

5. लालचन्द्र प्रार्थी -
इनका जन्म 1916 में कुल्लू के नग्गर में हुआ | इन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लिया | कुलूत देश की कहानी इनकी प्रसिद्ध रचना है | इनकी मृत्यु 11 दिसम्बर, 1982 में हुई |

6. सैमुअल इवान्स स्टोक्स (सत्यानंद स्टोक्स) -
 सैमुअल इवान्स स्टोक्स 1905 में फिलाडेल्फिया (यू. एस. ए.) से भारत आए | शिमला के कोटगढ़ में 1910 में बस गए | महात्मा गांधी से प्रेरित होकर इन्होंने खादी पहनना शुरू कर दिया | 1922 में लाहौर जेल में कैद हुए | 1918 ई. में इन्होंने कोटगढ़ में अमरीकी किस्म के सेब भी लगाए |

7. मेहर चंद महाजन - 
जस्टिस मेहर चंद महाजन का जन्म 23 दिसम्बर, 1889 को काँगड़ा के नगरोटा में हुआ | मेहर चंद महाजन सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस बनने वाले एकमात्र हिमाचली हैं | मेहर चंद महाजन 1954 में सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस बने |

8. ठाकुर सिंह नेगी (टी. एस. नेगी) - 
इनका जन्म 5 सितम्बर, 1909 को किन्नौर के शौंग में हुआ | 3 बार 1979-82, 1982-85 और 1990-92 तक विधानसभा के अध्यक्ष बने | उन्होंने शेड्यूल ट्राइब ऑफ़ हिमाचल प्रदेश किताब लिखी |

||famous personalities of himachal pradesh||Eminent Personalities of Himachal Pradesh||



9. विद्या स्टोक्स -
विद्या स्टोक्स का जन्म 8 दिसम्बर, 1927 को कोटगढ़ में हुआ | विद्या स्टोक्स हिमाचल प्रदेश विधानसभा की पहली महिला अध्यक्ष बनी | विद्या स्टोक्स हिमाचल प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष भी बनी | वह एक अंतर्राष्ट्रीय स्तर की महिला खिलाड़ी भी रही हैं |

10. डॉ. वाई. एस. परमार - 
डॉ. यशवंत सिंह परमार का जन्म सिरमौर के बाग़थन नामक स्थान पर 4 अगस्त, 1906 में हुआ | वह 1941 में सिरमौर में जज और वकील थे | वह 1952 मेंहिमाचल प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री बने | वह 1952-56, 1963-67, 1967-71, 1972-77 तक 4 बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे |

11. रामलाल ठाकुर - 
रामलाल ठाकुर का जन्म 1929 में जुब्बल में हुआ | ये 2 बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री बने | राम लाल ठाकुर 1983 में आंध्रप्रदेश के राज्यपाल बने | राम लाल ठाकुर मुख्यमंत्री और राजपाल बनने वाले एकमात्र हिमाचली थे | इनकी मृत्यु सन 2002 में हुई |

12. वीरभद्र सिंह -
 इनका जन्म 23 जून, 1934 को सराहन में हुआ | इनका संबंध रामपुर बुशहर रियासत से है | वीरभद्र सिंह 6 बार 1983, 1985, 1993, 2003, 2012 में हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री बने |

13. शांता कुमार - 
इनका जन्म 13 सितम्बर, 1934 को काँगड़ा के पालमपुर में हुआ | शांता कुमार 1977 और 1990 में हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री बने | इनकी प्रसिद्ध रचनाएँ हैं - धरती है बलिदान की, हिमालय पर लाला छाया, मृगतृष्णा, लाजो और खादी, मन के मीत, पहाड़ बेगाने नहीं होंगे | ये केन्द्रीय खाद्य और आपूर्ति मंत्री तथा ग्रामीण विकास मंत्री भी रहें हैं |

14. प्रेम कुमार धूमल -
 इनका जन्म 10 अप्रैल, 1944 को हमीरपुर के समीरपुर में हुआ | प्रेम कुमार धूमल 1998 से 2003 और 2007 से 2012 तक हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री बने | इन्होंने 1996 और 1998 में 2 बार लोकसभा का प्रतिनिधित्व किया है |

15. निकोलस रोरिक - 
इनका जन्म 1874 में रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में हुआ | इन्हें महर्षि के नाम से भी जाना जाता था | इन्होंने 20 वर्ष कुल्लू में बिताए और हिमालय पर 7 हजार चित्र बनाए | नग्गर में रोरिक कला संग्रहालय इन्हीं के नाम पर बना है | 13 दिसम्बर, 1947 को इनका निधन हो गया |

16. सरदार शोभा सिंह -
 इनका जन्म पंजाब के गुरदासपुर में 1901 में हुआ था | वे 1947 में अंद्रेटा (काँगड़ा) में आए | इन्हीं के नाम पर अंद्रेटा में शोभा सिंह आर्ट गैलरी है | 1989 में इनका निधन हो गया | इनके कुछ विख्यात चित्र हैं - सोहनी महिवाल, काँगड़ा ब्राइड, गद्दी सुन्दरी, सिक्ख गुरुओं के चित्र |

Read More:- Sobha Singh Art Gallery

||famous personalities of himachal pradesh||Eminent Personalities of Himachal Pradesh||

17. राजा संसारचंद -
 राजा संसारचंद काँगड़ा के सबसे प्रसिद्ध राजा थे | इनका जन्म 1775 ई. में हुआ | इन्होंने काँगड़ा चित्रकला के विकास वे बहुत योगदान दिया | इन्होंने 1809 में प्रसिद्ध ज्वालामुखी की संधि की | इनकी 1823 ई. में मृत्यु हो गई |

18. राजकुमारी अमृत कौर - 
राजकुमारी अमृत कौर का जन्म 2 फरवरी, 1889 ई. को लखनऊ में हुआ था | वर्ष 1952 में उन्होंने लोकसभा चुनाव जीता तथा देश की पहली स्वास्थ्य मंत्री बनी |

19. दलाईलामा - 
14वें दलाईलामा का असली नाम तेनजिंग ग्यास्त्रों है | दलाईलामा का जन्म 6 जुलाई, 1935 ई. को तिब्बत के ल्हासा में हुआ था | 1959 में तिब्बत पर चीन के कब्जे के बाद दलाईलामा तिब्बती शरणार्थियों के साथ धर्मशालामें बस गए | उन्होंने धर्मशाला में तिब्बत की अंतरिम सरकार का गठन किया | उन्हें 1989 में नोबेल शांति पुरस्कार प्रदान किया गया |

20. निर्मल वर्मा -
 निर्मल वर्मा का जन्म 3 अप्रैल, 1929 को शिमला में हुआ था | इनका पहला कहानी-संग्रह 'परिंदे' अत्याधिक प्रशंसित हुआ था | 'वे दिन' निर्मल वर्मा की सर्वश्रेष्ठ औपन्यासिक कृति है |

21. प्रीति जिंटा -
 प्रीति जिंटा का जन्म 31 जनवरी, 1975 को शिमला में हुआ था | इनकी पहली फिल्म 'दिल से' 1998 में रिलीज हुई थी | प्रीति जिंटा आई.पी.एल. की टीम 'किंग्स इलेवन पंजाब' टीम की ओनर है |

22. कंगना राणावत - 
कंगना राणावत का जन्म 20 मार्च, 1987 को मण्डी जिले के भाम्बला में हुआ था | उन्होंने वर्ष 2006 में "फैशन" फिल्म के साथ हिन्दी फिल्मों में पदार्पण किया |

23. मनोहर सिंह -
मनोहर सिंह का जन्म 1938 ई. में शिमला के क्वारा गाँव में हुआ था | उनकी पहली फिल्म 'किस्सा कुर्सी का' थी | 'पार्टी' और 'डैडी' फिल्मों में उन्होंने भूमिका निभायी है | वर्ष 1982 ई. में उन्हें संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार प्रदान किया गया |

24. जनरल विश्वनाथ (V.N.) शर्मा -
जनरल वी. एन. शर्मा काँगड़ा के डॉड गाँव के निवासी मेजर सोमनाथ शर्मा के छोटे भाई हैं | इन्होंने 1962, 1965 और 1971 ई. की लड़ाई में भाग लिया | इन्हें PVSM (परम विशिष्ट सेवा पदक) और AVSM (अति विशिष्ट सेवा पदक) से सम्मानित किया गया | जनरल वी. एन. शर्मा 1988 से 1990 तक भारत के थल सेनाध्यक्ष बनने वाले पहले हिमाचली हैं |

25. विक्रम बत्रा - 
विक्रम बत्रा का जन्म 9 सितम्बर, 1974 को पालमपुर के घुग्गार गाँव में हुआ | इन्हें 1999 के कारगिल युद्ध में असीम वीरता के लिए मरणोपरांत 'परमवीर चक्र' प्रदान किया गया |

26. सोमनाथ शर्मा -
 सोमनाथ शर्मा का जन्म 31 जनवरी, 1923 को काँगड़ा में हुआ था | वर्ष 1947 में पाकिस्तान के विरुद्ध कश्मीर युद्ध में असीम वीरता दिखाने के लिए इन्हें मरणोपरांत 'परमवीर चक्र' प्रदान किया गया |

27. सौरभ कालिया -
सौरभ कालिया का जन्म 29 जून, 1976 को हुआ था | उन्होंने प्रारम्भिक शिक्षा पालमपुर से प्राप्त की | कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तानी सैनिकों के अमानुषिक व्यवहार के कारण वह वीरगति को प्राप्त हुए |

Read More:- Temples In Himachal Pradesh


||famous personalities of himachal pradesh||Eminent Personalities of Himachal Pradesh||

Like Our Facebook PageClick Here
Advertisement With Us Click Here
To Join WhatsappClick Here
Online StoreClick Here

No comments: