Tuesday, October 20, 2020

Himachal Pradesh History Question Answer set -3

Himachal Pradesh History Question Answer set -3

  

Himachal Pradesh History Question Answer set -3

||Himachal Pradesh History Question Answer set -3||Hp History Question Answer set -3||hp history one liner||


Himachal Pradesh History Question Answer set -3


  • 1805 ई. में गोरखा सेना का नेतृत्व किसने किया जिसने काँगड़ा पर आक्रमण किया था –अमर सिंह थापा
  • गोरखों और ब्रिटिश के बीच सुगौली की संधि पर किस वर्ष हस्ताक्षर हुए -1815 ई. 
  • 1815 ई. की सुगौली की संधि का हिमाचल प्रदेश व उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों पर क्या राजनैतिक प्रभाव पड़ा
  • -गोरखों का इस क्षेत्र से प्रभाव खत्म व अंग्रेजों का प्रभाव शुरू। 
  • किस संधि द्वारा गोरखाओं ने 1815 ई. में पहाड़ी रियासतों पर अपना दावा छोड़ दिया -सुगौली की संधि।
  • गोरखों ने अमर सिंह थापा के नेतृत्व में सन् 1805 से सन् 1809 तक क्या किया -महलमोरियो में संसारचंद को हराकर काँगड़ा किले में छिपने के लिए मजबूर किया।
  • 1815 के मलौण और रामशहर युद्ध का परिणाम था। -गोरखा पराजय।
  • गोरखों ने बुशहर रियासत के हिस्सों पर कब्जा किस अवधि के दौरान किया था -1803-1815 ई.।
  • जुब्बल और रांवीगढ़ क्षेत्रों में गोरखाओं के विरुद्ध अभियान का नेतृत्व किसने किया -जेम्स वेली फ्रेजर।
  • . महाराजा रणजीत सिंह ने किस वर्ष संसारचंद से काँगड़ा किला प्राप्त किया -1809 ई.
  • सन् 1770 में राजा घमण्डचंद को अपने साम्राज्य का विस्तार करने से उसे हराकर किसने रोका था -जस्सा सिंह रामगढ़िया
  • राजा संसारचंद की हिमाचल प्रदेश में एक स्वतंत्र हिन्दू राज्य के गठन की महत्वाकांक्षा को किसने ध्वस्त किया
  • -महाराजा रणजीत सिंह।
  • राजा संसारचंद और रामगढ़िया सरदार जयसिंह के बीच काँगड़ा के किले पर अधिकार को लेकर चल रहे विवाद में किसने मध्यस्थता की थी -महाराजा रणजीत सिंह।
  • 12 मिश्लों में विभाजित किस सिख ने हिमाचल प्रदेश के कुछ हिस्से (काँगड़ा) पर 1809 ई. में राज किया-महाराजा रणजीत सिंह (देसा सिंह मजीठिया) 
  •  जयसिंह कन्हैया ने किससे काँगड़ा किला खाली करवाया था -जीवा खान।
  • महाराजा रणजीत सिंह ने कुल्लू की यात्रा की। -1808 में।
  • 9 मार्च, 1846 को सिक्खों ने अंग्रेजों को युद्ध क्षति के रूप में क्या दिया –कुल्लू, काँगड़ा, लाहौल स्पीति।
  • संसारचंद के पुत्र का नाम जिसका युद्ध रणजीत सिंह से हुआ था -अनिरुद्ध।
  •  सतलुज नदी के दक्षिण के सभी पहाड़ी क्षेत्रों को सिखों ने ब्रिटिशरों को किस संधि के द्वारा सौंपा था
  • -लाहौर की संधि (1846 ई.) 
  •  काँगड़ा किला और संधाता जिले को लाहौर (सिखों) को देने वाली ज्वालामुखी संधि महाराजा रणजीत सिंह और संसारचंद के बीच किस विक्रमी संवत को हुई थी -विक्रमी 1866 ई. श्रावण 5 को (1809 ई.)।
  • पाँवटा साहिब के गुरुद्वारे से कौन-सा सिख गुरु जुड़ा हुआ है –गुरु गोविंद सिंह।
  •  गुरु गोविंद सिंह ने दशम ग्रंथ की रचना किस शहर में की थी –पाँवटा साहिब 
  •  बुशहर रियासत के किस राजा को मुगल सम्राट औरंगजेब ने छत्रपति की पदवी से नवाजा था -केहरी सिंह।
  • हिमाचल प्रदेश की किस देशी रियासत ने कभी सम्राट अकबर का आधिपत्य स्वीकार नहीं किया, यद्यपि उसकी सेना ने उसके काफी बड़े भाग पर कब्जा कर लिया था -काँगड़ा।
  • पहला पर्वतीय सरदार जिसने औरंगजेब की मृत्यु और मुगल साम्राज्य के खण्डित होने के बाद अपने पैतृक अधिकार क्षेत्र काँगड़ा पर अपना आधिपत्य पुनः स्थापित किया था -राजा घमण्डचंद।
  •  अपने आधिपत्य की स्वीकृति के सूचक के रूप में वार्षिक नज़राना लेने के अलावा अकबर ने पहाड़ी रियासतों द्वारा आज्ञा पालन को सुनिश्चित करने के लिए क्या तरीका अपनाया था -मुगल दरबार में बंधक (खासतौर पर पहाड़ी रियासतों के राजा के पुत्रों या रिश्तेदारों) को रखना।
  • राजा घमण्डचंद ने अपने राज्य का विस्तार करना क्यों शुरू किया -औरंगजेब की मृत्यु और मुगलों के पतन के कारण। 
  •  घमण्डचंद की मृत्यु कब हुई -1773 ई. में।
  •  हुसैन कुली खान जो अकबर का पंजाब का सूबेदार था ने किस कारण नगरकोट के किले से घेरा उठा लिया
  • -इब्राहिम हुसैन मिर्जा के विद्रोह के कारण।
  •  काँगड़ा के अच्छे खासे भाग पर बीरबल (मुगलों का) का कब्जा होने के बावजूद नगरकोट किले पर किसका कब्जा रहा -राजा विधिचंद का।
  •  मुगल दरबार में कितने पहाड़ी राजकुमारों को मियां का नाम दिया गया था -221
  • घमण्डचंद के समय काँगड़ा किले पर किसका अधिकार था -नवाब सैफअली खान।
  •  जहाँगीर ने किस राजा की मदद से काँगड़ा किले को जीता -जगत सिंह।
  •  नूरुद्दीन के समय नूरपुर नाम पड़ा क्योंकि। . -नूरुद्दीन शाहजहाँ का नाम, बेगम नूरजहाँ का नाम तथा नूर का मतलब सुंदर स्थान।
  • जहाँगीर और नूरजहाँ काँगड़ा कब आए -1622 ई.




                                    Join Our Telegram Group

No comments: