Tuesday, December 29, 2020

HP GK Important MCQ Part 9- HP History

HP GK Important MCQ Part 9- HP History

||HP GK Important MCQ ||Himachal Pradesh  GK  MCQ In Hindi||


HP GK Important MCQ Part 9- HP History



 1. किस वर्ष में सिक्स जनरल जोरावर सिंह ने अपने स्पीति राज्य में लाहौल स्पीति के क्षेत्र को मिला लिया।

(A) 1737

(B) 1573

(C) 1842

(D) 1627


2. गोरखाओं को पराजित करने के बाद महाराजा रणजीत सिंह द्वारा नियुक्त किए काँगड़ा हिल के प्रथम नाजिम या राज्यपाल कौन थे?

(A) देसा सिंह मजीठिया

(B) भान सिंह

(C) ध्यान सिंह

(D) बीर सिंह


3. निम्नलिखित में से किसने राजा संसारचंद और जयसिंह रामगढ़िया के बीच काँगड़ा के किले पर स्वामित्व के विवाद को सुलझाने के लिए मध्यस्थता की?

(A) सैफअली खां

(B) जीवन खां

(C) महाराजा रणजीत सिंह

 (D) राजा बीरबल


4. सन् 1770 में किसने राजा घमण्डचंद को नजराना देने पर विवश कर दिया था?

(A) जस्सा सिंह

(B) अमरसिंह थापा

(C) अहमदशाह अब्दाली

(D) जयसिंह


5. 1759 में अहमदशाह दुर्रानी ने किसे पंजाब का गवर्नर नियुक्त किया था?

(A) घमण्ड चंद

(B) हमीर चंद

(C) अभय चंद

(D) गुमान चंद


6. किस वर्ष सिख सेनाओं ने मण्डी के 'कमालगढ़ दुर्ग' पर कब्जा कर लिया था?

(A) 1860

(B) 1850

(C) 1840

(D) 1830


7. राजा संसार चंद और महाराजा रणजीत सिंह के बीच ज्वालामुखी की संधि किस वर्ष हुई?

(A) 1806 ई.

(B) 1808 ई.

(C) 1807 ई.

(D) 1809 ई.


8. 1846-1876 ई. तक गुलेर किस रियासती राज्य का भाग था?

(A) जम्मू

(B) काँगड़ा

(C) चम्बा

(D) सिख (पंजाब)


9. महाराजा रणजीत सिंह ने किस वर्ष 'जसवान' राज्य को हड़प लिया था?

(A) 1809

(B) 1812

(C) 1814

(D) 1818


10. महाराजा रणजीत सिंह ने 1828 ई. में 'राजगीर' की जागीर किसे भेंट की थी?

(A) संसार चंद

(B) हीरा चंद

(C) फतेह चंद

(D) अनिरुद्ध चंद


11. महाराजा रणजीत सिंह ने किसे 1830 ई. में 'नादौन' की जागीर सौंपी?

(A) नरेन्द्र चंद

(B) कल्याण चंद

(C) जोधबीर चंद

(D) फतेहचंद


12. महाराजा संसारचंद की मृत्यु किस वर्ष हुई?

(A) 1823

(B) 1858

(C) 1773

(D) 1802

||Part -1||Part-2||Part-3||Part-4||Part-5||Part-6||Part-7||Part -8||


👉Himachal Pradesh Current Affairs:- Click Here


👉CHECK OUR ONLINE STORE:- CLICK HERE


                                    Join Our Telegram Group

No comments: