खेपा त्यौहार

 खेपा त्यौहार  

खेपा त्यौहार


  •  यह किन्नौरों (किन्नौर जिले के निवासी) का महत्त्वपूर्ण त्यौहार है। इसे दो प्रकार से मनाया जाता है। 
  •  प्रथम रूप में स्थानीय लोग नहा-धोकर शलजम की लफ्फी बनाते हैं। छतों पर एक काँटेदार झाड़ी चो या ब्रेकलिड लगाई जाती है। उसे घर के अन्दर किसी कोने में रखा जाता है। 
  •  द्वितीय रूप में यह पुलखेपा नाम से लोकप्रिय है। 
  •  इसमें बकरों के सिर तथा पोल्टू (तली हुई रोटी) पकाए जाते हैं। बकरे के सींगों को जलाया जाता है, ताकि भूत-प्रेत दुर्गन्ध से दूर भाग जाएँ। 
  •   खेपा का अर्थ आटे का सिद्ध होता है। यह भूत-प्रेत को भगाने का त्यौहार है।

Read More: -   Himachal Pradesh General Knowledge




             Join Our Telegram Group

Top Post Ad

Below Post Ad