Articles by "Notifications"

कुर्सी पर बैठने की जल्दी में महिला अधिकारी ने रात को खुलवा दिया बंद दफ्तर





विकास खंड अधिकारी की कुर्सी पर बैठने की जल्दी में अधिकारी ने नियमों को दरकिनार कर रात को ही बंद कार्यालय खुलवाकर ज्वाइनिंग दी। शाम पांच बजे सभी सरकारी कार्यालय बंद हो जाते हैं। विकास खंड अधिकारी सलूणी के पद पर बीस जनवरी को सरकार ने महिला अधिकारी के आर्डर किए थे।
                                                                                                                 वह जिले से बाहर तैनात थीं। महिला अधिकारी बीस जनवरी रात को सलूणी पहुंचीं। कार्यालय में तैनात दो कर्मचारियों को उन्होंने रात आठ बजे कार्यालय में बुलाया और रात को ज्वाइनिंग दी। कार्यालय में बीडीओ पद पर पहले से तैनात विभागीय अधिकारी सात बजे तक उनके आने का इंतजार करते रहे, लेकिन वह रात आठ बजे पहुंचीं।


                                                                                                              वह 21 जनवरी को भी ज्वाइनिंग दे सकती थीं। इसको लेकर पंचायत प्रतिनिधियों ने उपायुक्त चंबा विवेक भाटिया से शिकायत की है। फिलहाल, सरकार ने बीडीओ पद पर पुरुष अधिकारी के दोबारा ऑर्डर कर दिए हैं, लेकिन पंचायत प्रतिनिधियों ने रात को ज्वाइनिंग के मामले की जांच करने की मांग की है। उपायुक्त ने संबंधित बीडीओ पुरुष अधिकारी से इस बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि वह 21 रात को शिमला गए थे। महिला अधिकारी ने रात आठ बजे कार्यालय में जाकर ज्वाइनिंग दी। उनके साथ कार्यालय के दो अन्य कर्मचारी मौजूद थे।
                                                                                                           बीडीओ इंदु शर्मा ने बताया कि उनके बीस को सलूणी के लिए ऑर्डर हुए थे। उन्होंने कार्यालय में शाम छह बजे ज्वाइन किया। उन्होंने रात को कार्यालय नहीं खुलवाया है। उपायुक्त विवेक भाटिया ने बताया कि पंचायत प्रतिनिधियों ने रात को बीडीओ की ज्वाइनिंग करने की शिकायत की है। इसकी जांच की जाएगी। जो अधिकारी व कर्मचारी इसमें संलिप्त होंगे, उनके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई होगी।
Social Media(Stay Updated With Us):



जेबीटी काउंसिलिंग 28-29 को



HP ALLIED EXAM TEST SERIES 2020 (TOTAL TEST -10):- CLICK HERE


हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा दो वर्षीय डिप्लोमा इन एलिमेंट्री डीईएलईडी सत्र 2019-2021 के लिए केवल निजी मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थानों में प्रवेश हेतु तीसरे चरण की काउंसिलिंग प्रक्रिया बोर्ड मुख्यालय धर्मशाला में 28 व 29 जनवरी को प्रातः दस बजे से सायं पांच बजे तक आयोजित की जाएगी। मेरिट लिस्ट के अनुसार, 28 व 29 जनवरी को काउंसिलिंग प्रक्रिया हेतु चयनित अभ्यार्थियों की तिथिबार सूची बोर्ड की बेवसाइट पर उपलब्ध है। प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डा. सुरेश कुमार सोनी ने बताया कि काउंसिलिंग में भाग लेने वाले अभ्यार्थियों को यह आदेश दिए जाते हैं कि वह बोर्ड बेवसाइट पर उपलब्ध तिथिबार सूची अनुसार ही बोर्ड मुख्यालय धर्मशाला काउंसिलिंग हेतु पहुंचे। अभ्यर्थी अपने साथ बोर्ड बेबसाइट पर उपलब्ध बायोडाटा फॉर्म को भरकर तथा अपने समस्त मूल शैक्षणिक प्रमाण पत्रों के साथ उक्त सत्यापित छायाप्रतियां भी साथ लेकर पहुंचे।
Social Media(Stay Updated With Us):





टीजीटी आर्ट्स टेट में 18 हजार फेल





मेडिकल का रिजल्ट महज 5.12 फीसदी, नॉन मेडिकल में 3434 अभ्यर्थी ही पास

हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड धर्मशाला ने आखिरकार दो महीने बाद सोमवार को अध्यापक पात्रता परीक्षा टैट का परिणाम घोषित कर दिया। बोर्ड की ओर से आठ विषयों की अध्यापक पात्रता परीक्षा परिणाम एक साथ घोषित किया गया। रिजल्ट काफी हैरान करने वाला रहा, क्योंकि भविष्य के शिक्षक पहले पड़ाव में ही धड़ाम हो गए। टीजीटी मेडिकल में मात्र 5.12 फीसदी अभ्यर्थी ही पास हो पाए, जबकि आर्ट्स में भी महज 12.57 प्रतिशत ही टेट पास कर पाए। सबसे अधिक 20765 उम्मीदवारों ने आर्ट्स टेट में भाग लिया था, जिसमें से मात्र 2611 ही परीक्षा उत्तीर्ण कर पाए। परीक्षा में 18 हजार 154 उम्मीदवार फेल हुए हैं। बोर्ड की ओर से नॉन मेडिकल, एलटी, मेडिकल, आर्ट्स, जेबीटी, शास्त्री, पंजाबी व उर्दू की परीक्षाएं 10 नवंबर, 12 , 17 व 24 नवंबर 2019 को प्रदेश भर में आयोजित करवाई गई थीं। उधर, स्कूल शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डा. सुरेश कुमार सोनी ने बताया कि टेट का परीक्षा परिणाम जारी कर दिया गया है। उम्मीदवार बोर्ड की बेवसाइट से अपना परिणाम प्राप्त कर सकते हैं।


टीजीटी नॉन मेडिकल
8516 अभ्यर्थियों ने अप्लाई किया, 7868 परीक्षा में बैठे और 3434 पास। परिणाम 43.65 फीसदी रहा
टीजीटी आर्ट्स
22822 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया, 20765 परीक्षा में बैठे और 2611 पास हुए। रिजल्ट 12.57 प्रतिशत रहा
टीजीटी मेडिकल
6064 ने अप्लाई किया, 5620 अपियर हुए और 288 परीक्षार्थी पास। रिजल्ट परसेंटेज 5.12 रही
पंजाबी, उर्दू, शास्त्री
पंजाबी भाषा के लिए 234 अभ्यर्थियों ने अप्लाई किया, 128 अपियर हुए और 74 पास। उर्दू में 72 ने अप्लाई किया, 43 अपियर हुए और 35 पास। शास्त्री में 2466 ने अप्लाई किया,782 पास।
भाषा अध्यापक
5876  ने अप्लाई किया,  5350 अपियर हुए और 907 पास। पास प्रतिशतता 16.95 रही
जेबीटी
11198 ने अप्लाई किया, 10488 परीक्षार्थी अपियर हुए तथा 5922 पास।

Social Media(Stay Updated With Us):





जेईई मेन: सार्थक दीवान बने हिमाचल के टॉपर, अक्षित ने शिमला में किया टॉप





इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिले के लिए आयोजित जेईई मेन 2020 के परीक्षा परिणाम में शिमला के सार्थक दीवान हिमाचल के टॉपर बने हैं। उन्होंने 99.9683001 परसेंटाइल हासिल किए हैं। वह शिमला के संजौली के रहने वाले हैं। अप्रैल की परीक्षा के लिए 7 फरवरी से आवेदन जेईई मेन अप्रैल के लिए 7 फरवरी से 7 मार्च तक आवेदन विंडो खुली रहेगी। जनवरी और अप्रैल की परीक्षा के अंकों के आधार पर जेईई मेन 2020 की मेरिट लिस्ट बनेगी। इसी आधार पर आईआईटी के लिए अलग से लिस्ट बनेगी।


हिमाचल सरकार लाई 2500 नौकरियां





मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में गुरुवार को आयोजित प्रदेश मंत्रिमंडल की बैठक में नौकरियों का पिटारा खोलते हुए विभिन्न विभागों में करीब 2500 पद भरने को मंजूरी दी गई है। कैबिनेट ने प्रारंभिक शिक्षा विभाग में ही विभिन्न श्रेणियों के 819 पद भरने की मंजूरी दी है। इनमें जेबीटी के 532, भाषा अध्यापकों के 35, शास्त्रियों के 133, टीजीटी (कला) के 104, टीजीटी (नॉन मेडिकल) के आठ और टीजीटी (मेडिकल) के सात पद शामिल हैं। ये सारे पद अनुबंध आधार पर भरे जाएंगे। बैठक में पैरा कार्यकर्ताओं के 1578 पद भरने को भी स्वीकृति प्रदान की गई, जिनमें 417 पैरा पंप ऑपरेटर, 287 पैरा फीटर और 874 बहुद्देश्यीय कार्यकर्ता शामिल हैं। इन पदों को सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग की 394 नई पेयजल एवं सिंचाई योजनाओं के संचालन के लिए विभाग की पैरा कार्यकर्ता नीति के अंतर्गत भरा जाएगा। मंत्रिमंडल ने बागबानी विभाग में अनुबंध आधार पर कनिष्ठ टेक्नीशियन के 16 पद भरने का भी निर्णय लिया है, जिनमें से आठ पद सीधी भर्ती के माध्यम से और आठ पद बैच के आधार पर भरे जाएंगे। इसके अलावा प्रदेश उच्च न्यायालय में सीधी भर्ती के माध्यम से सिविल जज के 11 पद भरने का निर्णय लिया गया है। मंत्रिमंडल ने मंडी उपायुक्त कार्यालय में कनिष्ठ कार्यालय सहायक (आईटी) के छह पद और सेवादारों के सात पद भरने का निर्णय लिया है।


                                                                                            बैठक में हाल ही में खोले गए अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश नालागढ़ और नागरिक न्यायालय बंजार, तिसा और शिलाई में नियमित आधार पर रिकार्ड कीपर के चार पद भरने को स्वीकृति प्रदान की गई। उद्योग विभाग में चालकों के तीन पद भरने को मंजूरी प्रदान की गई है। बैठक में अल्टर्नेटिव डिस्प्यूट्स रिजोल्यूशन सेंटर बिलासपुर, हमीरपुर, रिकांगपिओ और नाहन में चौकीदार एवं सेवादारों के चार और सफाई कर्मचारी एवं सेवादारों के चार पद भरने को स्वीकृति प्रदान की गई। मंत्रिमंडल ने मंडी जिला के राजकीय प्राथमिक पाठशाला कुन्नू को राजकीय माध्यमिक पाठशाला के रूप में स्तरोन्नत करने और आवश्यक पदों को सृजित करने का निर्णय लिया। सिरमौर जिला के पच्छाद विधान सभा क्षेत्र के अंतर्गत राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बसाबण में विज्ञान की कक्षाएं आरंभ करने और आवश्यक पदों को भरने का निर्णय लिया गया है। बैठक में वन क्षेत्रों से चीड़ की पत्तियों को एकत्रित करने और हटाने के लिए नीति में संशोधन का निर्णय लिया गया, ताकि आगजनी की घटनाओं को कम किया जा सके और हितधारकों को चीड़ की पत्तियों को हटाने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके।

                                                                                                                              इसके अतिरिक्त संशोधन के अनुरूप उद्योगों को चीड़ की पत्तियों को ईंधन के रूप में उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। बैठक में चंबा जिला की राजकीय प्राथमिक पाठशाला बैली-2 को राजकीय माध्यमिक पाठशाला, राजकीय माध्यमिक पाठशाला धार को उच्च पाठशाला और राजकीय उच्च पाठशाला परिहार को राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला के रूप में स्तरोन्नत करने का निर्णय लिया गया। सिरमौर जिला के राजकीय उच्च विद्यालय गढोल पीरग और सिरमौरी मंदिर को राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला के रूप में स्तरोन्नत करने को मंजूरी प्रदान की गई। इन विद्यालयों के संचालन के लिए विभिन्न श्रेणियों के 25 पद भरने का निर्णय लिया गया है। प्रदेश के जलाशयों में मछली के दामों में एकरूपता लाने, मछली को एक ब्रांड बनाने और मछली उत्पादन से जुड़े लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार के उद्देश्य से राज्य के जलाशयों के लिए एक परियोजना को स्वीकृति प्रदान की गई। यह परियोजना गोविंद सागर में कार्यान्वित की जाएगी। मंत्रिमंडल ने बिलासपुर जिला के बैसाखी-नलवाड़ मेला झंडूता और नलवाड़ मेला सुनहाणी को जिला स्तरीय मेला घोषित करने को स्वीकृति प्रदान की, ताकि जिला की समृद्ध संस्कृति और परंपराओं को बढ़ावा दिया जा सके।
Social Media(Stay Updated With Us):





अभ्यर्थियों की जगह NIOS की परीक्षा देने पहुंच गए हरियाणा के 2 युवक




हमीरपुर जिला में वीरवार को एनआईओएस की परीक्षा में 2 अभ्यर्थियों के स्थान पर हरियाणा के 2 अन्य युवक परीक्षा देने पहुंच गए। बता दें कि एनआईओएस ऑन-डिमांड जमा 2 की हिंदी की परीक्षा देने हमीरपुर सैंटर में हरियाणा के 2 युवक अन्य परीक्षार्थियों के स्थान पर परीक्षा देने पहुंच गए।


                                                                                         हालांकि परीक्षा हाल में एडमिट कार्ड की चैकिंग के दौरान परीक्षा नियंत्रक को इन पर शक हो गया, जिसके बाद मौका पाकर दोनों मौके से फरार हो गए। जानकारी के अनुसार वीरवार को एनआईओएस की ऑन डिमांड हिंदी की परीक्षा आयोजित हुई। दोपहर बाद 2 से 5 बजे तक परीक्षा का आयोजन किया गया। इस दौरान हरियाणा के 2 युवक परीक्षा हाल में पहुंच गए। इन दोनों के पास किन्हीं अन्य के एडमिट कार्ड थे, जिन दोनों के एडमिट कार्ड इनके पास थे वे भी हरियाणा के ही थे। बता दें कि हिमाचल में कुछेक ही सैंटर ऑन डिमांड उपलब्ध रहते हैं। इसके चलते हरियाणा के युवकों ने हमीरपुर का सैंटर भर दिया था।
                                          हालांकि परीक्षा हाल में पहुंचते ही 3 अभ्यर्थियों पर परीक्षा नियंत्रक को शक हो गया। एक को परीक्षा नियंत्रक ने पकड़ लिया जबकि 2 भागने में सफल हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले की जांच की, जिस युवक को पकड़ा गया था, वे तो सही पाया गया लेकिन 2 युवक भाग निकले। वहीं संबंधित परीक्षा केंद्र के प्रधानाचार्य ने माना कि 2 युवक अन्य की जगह परीक्षा देने पहुंच गए थे लेकिन इन्हें हाल में बैठते ही पहचान लिया गया, फिर ये मौके से भाग निकले। बाद में परीक्षा शांतिपूर्वक ढंग से हुई। थाना प्रभारी संजीव गौतम ने बताया कि संबंधित मामले में स्कूल ने पुलिस को बुलाया था। इस दौरान जिस युवक को पकड़ा गया था वह सही पाया गया। उसका एडमिट कार्ड बिल्कुल सही था। हालांकि 2 युवकों के मौके से भागने की बात कही गई। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Social Media(Stay Updated With Us):








पुलिस भर्ती लिखित परीक्षा फर्जीवाड़े - 8 पुलिस जवानों सहित 12 के खिलाफ शुरू हुई जांच


Offer:-  

HP ALLIED 10 TEST SERIES 2020 (HINDI/ENGLISH ) JUST IN 299:- BUY NOW




पुलिस भर्ती की लिखित परीक्षा फर्जीवाड़े के दाग वर्तमान में पुलिस में सेवाएं दे रहे जवानों की वर्दी पर भी लगे हैं। हिमाचल प्रदेश पुलिस में 8 पुलिस जवान फर्जी तरीके से लिखित परीक्षा पास कर अपनी सेवाएं दे रहे हैं, साथ ही हिमाचल पथ परिवहन निगम के परिचालक तथा जेल वार्डन के पदों पर भी अभ्यार्थियों को फर्जी तरीके से पास करवा नौकरी लगवाई है। पुलिस जांच में पुलिस भर्ती लिखित परीक्षा फर्जीवाड़े के मुख्य आरोपी ने 12 लोगों के नाम बताए हैं, जिसके बाद पुलिस ने आरोपी की शिनाख्त पर उक्त उम्मीदवारों के दस्तावेजों की जांच तथा अन्य तथ्यों को खंगालने की प्रक्रिया आरंभ कर दी है।
                                                                       वीरवार को पुलिस अधीक्षक कांगड़ा विमुक्त रंजन ने पत्रकार वार्ता के दौरान बताया कि पुलिस भर्ती लिखित परीक्षा फर्जीवाड़े के मुख्य आरोपी विक्रम चौधरी ने पूछताछ में 12 लोगों के नाम बताए हैं। इन सभी को आरोपी ने फर्जीवाड़े तरीके पुलिस सहित विभिन्न विभागों में नौकरी दिलवाई। उन्होंने कहा कि आरोपी ने बताया है कि पुलिस में ही लगभग 8, जेल वार्डन पदों की भर्ती में एक तथा एचआरटीसी के परिचालकों के पदों पर हुई भर्ती के दौरान 2 अभ्यार्थियों को फर्जीवाड़े के तहत पास करवाया है।                                                                                                                                                एसपी ने कहा कि आरोपी विक्रम की शिनाख्त पर पुलिस में सेवाएं दे रहे ऐसे जवानों के दस्तावेजों की जांच को आरंभ कर दिया है, साथ ही जांच में उक्त जवानों के खिलाफ तथ्य सही पाए जाते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। इसके लिए पुलिस इन जवानों के खिलाफ केस भी दर्ज कर सकती है। उन्होंने कहा कि एचआरटीसी तथा जेल वार्डन के पदों पर नौकरी कर रहे ऐसे अभ्यार्थियों पर भी कार्रवाई की जाएगी तथा अन्य विभागों को भी आरोपी द्वारा बताए गए नामों की सूची आगामी कार्रवाई के लिए भेज दी गई है। उन्होंने कहा कि इस मामले में अभी और गिरफ्तारियां हो सकती हैं। इस फर्जीवाड़े की जांच में अभी तक पुलिस ने 35 गिरफ्तारियां की हैं। आरोपी ने पुलिस पूछताछ के दौरान कबूल किया है कि उसने वर्ष 2012 से लेकर 2017 तक उक्त अभ्यार्थियों को फर्जीवाड़े से पास करवाकर सरकारी नौकरी दिलवाई है।

Social Media(Stay Updated With Us):







हिमाचल में चयनित पटवारियों के प्रशिक्षण पर रोक, सभी डीसी को निर्देश जारी






राज्य में 1194 पदों के लिए आयोजित पटवारी भर्ती की लिखित परीक्षा में कथित गड़बड़ी के चलते चयनित अभ्यर्थियों के प्रशिक्षण पर रोक लगा दी गई है। सरकार ने दस्तावेजों की जांच भी अगले फरमान तक स्थगित कर दी। लगातार विवादों में रही लिखित परीक्षा के चलते हाईकोर्ट ने पहले ही सरकार को इस मामले की जांच सीबीआई से कराने के आदेश दिए हैं।
इस संबंध में निदेशक भू रिकॉर्ड सीपी वर्मा ने लाहौल-स्पीति जिले के डीसी को छोड़ सभी 11 उपायुक्तों को लिखित फरमान जारी कर दिए हैं। निदेशक ने पत्र में लिखा है कि आगामी आदेश जारी होने तक ये फरमान लागू रहेंगे। गौर हो कि प्रदेश सरकार ने वर्ष 2019 में 1194 पटवारियों के पद भरने के लिए लिखित परीक्षा ली थी। इस परीक्षा के दौरान कई अनियमितताओं को लेकर कुछ अभ्यर्थी मामले को लेकर हाईकोर्ट चले गए थे।
                                                                                                    अभी मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन ही था कि प्रदेश सरकार ने परीक्षा परिणाम भी घोषित कर दिया था। यह परीक्षा लाहौल-स्पीति जिले को छोड़कर अन्य सभी जिलों में कराई थी। इसके बाद पटवारी परीक्षा में चयनित उम्मीदवारों के दस्तावेजों की जांच और प्रशिक्षण की तारीख तय करने का काम जिलों में शुरू कर दिया था।

Social Media(Stay Updated With Us):





एलाइड परीक्षा फरवरी एचएएस एग्जाम जून में





हिमाचल में पहली बार प्रशासनिक सेवाओं की सभी मुख्य प्रतियोगी परीक्षाओं का शेड्यूल जारी कर दिया गया है। हिमाचल प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन ने पहली बार अनूठी पहल करते हुए प्रदेश के लाखों उम्मीदवारों को बड़ी राहत प्रदान की है। इसके तहत साल भर होने वाली मुख्य परीक्षाओं की संभावित डेटशीट तय कर दी गई है। इसमें एचएएस की जून, एलाइड फरवरी और ज्यूडीशियल की परीक्षाएं मार्च-अप्रैल में आयोजित की जाएंगी। इसके लिए पब्लिक सर्विस कमीशन ने प्री और मेन्स एग्जाम को लेकर भी नोटिफिकेशन भी जारी कर दी है। हिमाचल प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन ने मकर संक्राति के दिन प्रदेश के लाखों युवाओं को बड़ा तोहफा प्रदान किया है। इसके तहत महत्त्वपूर्ण परीक्षाओं की प्री-एग्जाम व मेन्स परीक्षा की संभावित शेड्यूल जारी किया गया है। प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन की सचिव राखिल काहलों ने बताया कि एक साल का संभावित शेड्यूल जारी कर दिया गया है। कमीशन की अधिकारिक वेबसाइट में भी इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी गई है।

Social Media(Stay Updated With Us):






My GOV  PORTAL लांच करने वाला हिमाचल 11 वा राज्य 



माई जीओवी पोर्टल लांच करने वाला हिमाचल देश का 11वां राज्य बन गया है। इससे पहले नागालैंड, झारखंड, छत्तीसगढ़, त्रिपुरा, अरूणचल प्रदेश, मणिपुर, महाराष्ट्र, हरियाणा, मध्यप्रदेश और असम सरकार पोर्टल लांच कर चुकी है।


            माई जीओवी पोर्टल पर एक क्लिक करते ही जयराम सरकार की 45 योजनाएं आम जनाता देख सकेगी। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने यह पोर्टल उनके जन्मदिन के अवसर पर छह जनवरी को ही लांच किया था। उसके बाद सरकार ने आम जनमानस से सुझाव भी मांगे थे, ताकि जनता जिस तरह पोर्टल चाहती है, उसे सुचारू रूप से चलाया जाए। आईटी विभाग के मुताबिक चार दिन में 151 सुझाव आए हैं। ऐसे ही सुझाव 17 जनवरी तक मांगे हैं। लोगों के इन सुझावों की समीक्षा होगी और उसके बाद जनता जैसी योजनाएं चाहेगी, उसी अंदाज में पोर्टल पर काम चलेगा। माईजीओवी हिमाचल प्रदेश के लोगों को अपने विचारों, सुझावों, प्रतिक्रियाओं और शिकायतों को सरकार तक पहुंचाने के लिए तैयार किया गया। बताया गया कि माईजीओवी हिमाचल पोर्टल और मुख्यमंत्री ऐप के माध्यम से प्रशासन को लोगों के करीब लाने का एक प्रयास है और इससे सरकार और लोगों के मध्य परस्पर संवाद सुनिश्चित किया जा सकता है। इस पोर्टल की मुख्य विशेषताएं विभिन्न प्रकार की सार्वजनिक नीतियों के मुद्दों पर बातचीत, चर्चा, कार्य, मत देना और ब्लॉग्स हैं। इसकी मदद से नागरिक सरकार द्वारा जनता के कल्याण के लिए विभिन्न नीतियों और कार्यक्रमों की प्रत्यक्ष और त्वरित जानकारी हासिल कर सकेंगे। इस ऐप के माध्यम से आम जनता भी नीतियों और कार्यक्रमों को अधिक प्रभावशाली और परिणाम उन्मुख बनाने के लिए अपने मूल्यवान सुझाव दे सकते हैं। इससे पूर्व प्रदेश सरकार ने जनता को उनकी समस्याओं के समाधान और सामाजिक महत्त्व के विभिन्न मुद्दे उठाने के लिए मुख्यमंत्री संकल्प सेवा हेल्पलाइन-1100 का शुभारंभ किया था। माईजीओवी पोर्टल पर मुख्यमंत्री को किसी भी विकास कार्य एवं योजनाओं में संशोधन करने के लिए सुझाव दे सकते हैं। उसके बाद ही प्रदेश सरकार 17 जनवरी के बाद सभी सुझावों की समीक्षा कर उसे संपूर्ण दस्तावेज बनाएगी।



सुंदरनगर के महादेव की नेहा चौहान ने UGC नेट परीक्षा की पास





मंडी जिला के उपमंडल सुंदरनगर के महादेव गांव की नेहा चौहान ने यूजीसी नेट परीक्षा उतीर्ण करके सहायक प्रोफेसर की पात्रता फेलोशिप (जेआरएफ) सहित प्राप्त कर ली है। इस परीक्षा में लगभग 20 हजार अभ्यार्थी बैठे थे। जिसमें मात्र 108 अभ्यार्थी ही उतीर्ण हुए हैं। वर्तमान में नेहा चौधरी सरवन कुमार कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर से मृदा विज्ञान में पीएचडी कर रही है।
                                               नेहा इससे पूर्व कृषि वैज्ञानिक चयन मंडल द्वारा आयोजित नेट की परीक्षा भी उतीर्ण कर चुकी है। बता दें कि नेहा ने इसी विश्वविद्यालय से बीएससी और एमएससी (मृदा विज्ञान) की परीक्षा स्वर्ण पदक सहित पास की है। नेहा ने अपनी प्राइमरी की शिक्षा सरस्वती विद्या मंदिर महादेव और बारहवीं तक की परीक्षा डीएवी स्कूल सुंदरनगर से पास की है। उल्लेखनीय है कि नेहा कृषि वैज्ञानिक बनना चाहती थी। जिसके लिए नेहा ने बैंक अधिकारी की नौकरी भी छोड़ दी। इस उपलब्धि का श्रेय नेहा अपने माता अंजना, पिता गंगा सिंह चौहान, अध्यापकों, पति, सास-ससुर व अपने मित्रों को देती है।

ocial Media(Stay Updated With Us):







कृषि विवि पालमपुर में क्लर्कों के पदों पर जारी कर दिए जाली नियुक्ति पत्र




कृषि विवि पालमपुर में क्लर्क के पदों के जाली नियुक्ति पत्र जारी हुए हैं। यह पत्र बाहरी लोगों ने जारी किए हैं। इसके किसी गिरोह की भी संभावना जताई जाने लगी है। विवि ने इसका पता चलते ही कड़ा संज्ञान लिया है। जारी इन पत्रों में कृषि विवि पालमपुर में क्लर्क के पदों पर नियुक्ति दी गई है। यह पत्र कुछ लोगों को जारी हुए हैं। लिहाजा, विवि इसके लिए चौकस हो गया है।
                                                                 विवि के नाम पर बताए गए इन जाली पत्रों में क्लर्क के पदों पर नियुक्ति बताई गई है। सूत्रों की मानें यह पत्र करीब पांच लोगों को मिले हैं। लोगों को मिले अपने नियुक्ति पत्र में 20 फरवरी से 28 फरवरी तक विवि में ज्वाइन का समय भी बताया गया है। यह पत्र नियुक्ति पाने वाले लोगों ने कुलपति पालमपुर के भेजे हैं, जिससे अब एक बड़े ठगी के गिरोह की संभावना लग रही है।
                                                                                                                                      इन लोगों को कैसे यह नियुक्ति पत्र मिले और किसने भेजे अब यह लोग इसकी शिकायत पुलिस में कर सकते हैं। लेकिन विवि के नाम पर की गई क्लर्क पद की फर्जी नियुक्ति पर आने विवि के संयुक्त निदेशक डा. हृदयपाल सिंह ने कहा कि चार-पांच लोगों को यह जाली नियुक्ति पत्र मिले हैं। यह पत्र कैसे और किसने दिए हैं।
                                                                                                                            लोग इसकी शिकायत पुलिस में कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में नियुक्तियां विश्वविद्यालय कुल सचिव कार्यालय की ओर से नियमों के अनुसार की जाती हैं। इसके लिए पदों के विज्ञापन और साक्षात्कार संबंधी पूरी जानकारी दी जाती है और विवि के बेवसाइट पर भी दर्शाई जाती है। लोगों से अनुरोध है कि वे ठगी करने वाले ऐसे लोगों के जाल में न फंसें।


                                                             


himexam.com

copyright@2019-2020:-himexam.com||Designed by Gaurav Patyal

Contact Form

Name

Email *

Message *

Theme images by enjoynz. Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget